Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.
1 | P a g e
नन्नास एकउष्णकिटबन्ध पौधे एवं उसके फल का सामान्य नाम ह।
ब्रोमेिलयासीइ प�रवार का यह फल आज  सवर्व, रसीला, जोशीला...
2 | P a g e
इसक� खोज का श्रेय िक्रस्टोफर कोलम्बस को िदया ज , िजन्होंन1493 में इसे गॉडेलूप द्वीप में  ,
हालाँिक दि�णी अमे�र...
3 | P a g e
इसमें भरपूर िवटािमन सी होता ह, जो एक घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट है और म-मूलकों के आतंक से हमारी र�ा
करता है। और र�ा...
Upcoming SlideShare
Loading in …5
×

1

Share

Download to read offline

Pineapple

Download to read offline


नन्नास एक उष्णकटिबन्धीय पौधे एवं उसके फल का सामान्य नाम है। ब्रोमेलियासीइ परिवार का यह फल आज सर्वव्याप्त, रसीला, जोशीला और स्वादिष्ट फल है। इस फल का वानस्पतिक नाम अनानास कोमोसस है। इसका अनोखा मीठा और खट्टा स्वाद सबको अच्छा लगता है। वैसे तो इसका मौसम मार्च से जून तक रहता है, लेकिन बाजारों में यह पूरे साल उपलब्ध हो जाता है। । अनन्नास का ज्यूस शौक से पीया जाता है। साथ ही इसको ताजा काट कर खाया जाता है और खाने के बाद सलाद के रूप में या फ्रूट-कॉकटेल के रूप में प्रयोग भी किया जाता है।
अनन्नास पाचक तत्वों से भरपूर, शरीर को ताजगी देने वाला, हृदय व मस्तिष्क को शक्ति देने वाला, कृमि नाशक और स्फूर्तिदायक फल है| ये त्वचा में निखार लाता है| गर्मी में यह ताजगी व ठंडक देता है| अनन्नास के रस में प्रोटीन को पचाने की अपार क्षमता है| यह आँतों को सशक्त बनाता है|

Related Books

Free with a 30 day trial from Scribd

See all

Related Audiobooks

Free with a 30 day trial from Scribd

See all

Pineapple

  1. 1. 1 | P a g e नन्नास एकउष्णकिटबन्ध पौधे एवं उसके फल का सामान्य नाम ह। ब्रोमेिलयासीइ प�रवार का यह फल आज सवर्व, रसीला, जोशीला और स्वािद� फल है। इस फल का वानस्पितक नाम अनानास कोमोसस है। इसका अनोखा मीठा और खट्टा स्वाद सबको अच्छा लगता है। वैसे तो इ मौसम माचर् से जून तक रहता ह, लेिकन बाजारों में यह पूरे साल उपलब्ध जाता है। । अनन्ना का ज्यूस शौक से पीया जाता है। साथ ही इसको ताजा काट कर खाया जाता है और खाने के बाद सलाद के �प मेंया फ्र-कॉकटेल के �प में प्रयोग भी िकया जाता। अनन्ना पाचक तत्वों से भरप , शरीर को ताजगी देने वाला , �दय व मिस्तष्क को शि� देने वा, कृ िम नाशक और स्फूितर्यक फल है| ये त्वच में िनखार लाता ह | गम� में यह ताजगी व ठंडक देता है| अनन्नास के रस मे प्रोटीन को पचाने कअपार �मता है| यह आँतों को सश� बनाता ह| हालांिक तकनीक� �ि� से यह अनेक छोटे-छोटे फलों से िमल अपना आकार प्रा� करता । इसक� सतह पर ये छोटे फल आँख क� तरह िदखाई देते हैं। यह एक बड़ा और बेलनाकार फल है, िजसक� बाहरी खुरदरी और िछलके दार सतह हरे, भूरे या पीले रंग क� होती है। िसर पर नीली हरी मांसल पि�यों का ताज पहने सबको आकिषर्त करता है। इसका नीचे का आधार अपे�ाकृ त अिधक मीठा और कोमल होता है। इितहास दोस्त, नाम पर मत जाइये, सच्चाई यही है िकन ये पाइन है, न ये एप्पल है और न ही इसक� उत्पि� हवाई द्वीप से ह�ई यह अलग बात है िक अनन्नस का व्यवसाियक उत्पादन हवाई द् में ही शु� ह�, और आज इसे हम हवाई द्वीप के िवषेश फल क �प में जानते है लेिकन इसक� उत्पि� दि�णी अमे�रकामे ह�ई है। पाइन कोन जैसा िदखने के कारण इसका नाम पाइनएप्पल रखा गया। पाइनएप्पल शब्द अंग्रेजी 1664 से पहले कभी प्रयोग नहिलया गया। अ सेहत का िबग ब्रद– अनन्ना Written by Dr. Om Verma M.B.B.S.,M.R.S.H. (London) President, Flax Awareness Society 7-B-43, Mahaveer Nagar III, Kota (Raj.) http://flaxindia.blogspot.in +919460816360
  2. 2. 2 | P a g e इसक� खोज का श्रेय िक्रस्टोफर कोलम्बस को िदया ज , िजन्होंन1493 में इसे गॉडेलूप द्वीप में , हालाँिक दि�णी अमे�रका में लम्बे समय से इसक� खेती क� जा रही थी। कोलम् ने इसको “piña de Indes” अथार्त“इंिडयन्स का पाइ” नाम से पुकारा। दि�णी अमे�रका के गॉरानी इंिडयन्स ने इसे खाने के िलए पैदा क ते थे। वे इसे nanã अथार्त उत्कृ� फल कहते थे 1519 में एक अन्य खोजकतार् मेगेलान ने ब्राजी पाइनएप्पल का क� खोज क� थी और 1555 से इस रसीले फल को बड़े चाव से िनयार्त करके इंगल ड भेजा जाने लगा। और जल्दी ही यह फल िहन्दुस् , एिशया और वेस्ट इंडीज मे भी प्रचिलत हो गया। सन 1751 में जब जॉजर् वािशंगटन ने बरबाडोस में पहली बा पाइनएप्पल खाया तो उन्हें यह इतना पसन्द आया इसे पसन्दीदा उष्णकिटबन्धीय फल घोिषत कर िदय सन् 1770 में केप्टन जेम्स कुक ने हवाई द्वी अनानास क� खेती शु� क�, लेिकन इसका व्यवसाियक उत्पादन 1880 से शु� ह�आ , जब समुद्री जहाज क आने से इसका िनयार्त आसानी से होने लगा था। सन् 1903 में जेम्स ड्रमॉन्ड डोले ने अनानास का िडब् बंद करके पूरे िव� में इसको भेजना शु� िकया था। इसका िछलका िनकालने और काटने क� नई स्वचािलत मशीनें आने के बाद इसका िनयार्त िदन दुगनी रा चौगुनी तरक्क� करने लगा। इस तरह देखते देखते डोल हवाईयन पाइनएप्पलकं पनी हवाई क� सबसे बड़ी खाद् उद्योग बनई। आज भी िव� का 10 प्रितशत अनाना हवाई में ही पैदा होता है। मेिक्सक , होन्ड्युर, थाईलें, चीन, डोिमिनयन �रपिब्ल , िफिलपीन्, कोस्टा �रक और एिशया अनानास के बड़े उत्पादक देश हैं Pineapple, raw Nutritional value per 100 g (3.5 oz) Energy 209 kJ (50 kcal) Carbohydrates 13.12 g Sugars 9.85 g Dietary fiber 1.4 g Fat 0.12 g Protein 0.54 g Thiamine (vit. B1) 0.079 mg (7%) Riboflavin (vit. B2) 0.032 mg (3%) Niacin (vit. B3) 0.5 mg (3%) Pantothenic acid (B5) 0.213 mg (4%) Vitamin B6 0.112 mg (9%) Folate (vit. B9) 18 μg (5%) Choline 5.5 mg (1%) Vitamin C 47.8 mg (58%) Calcium 13 mg (1%) Iron 0.29 mg (2%) Magnesium 12 mg (3%) Manganese 0.927 mg (44%) Phosphorus 8 mg (1%) Potassium 109 mg (2%) Sodium 1 mg (0%) Zinc 0.12 mg (1%) Source: USDA Nutrient Database अनन्नास– पोषक तत्वों का उपव अनन्नास में पोषक तत्वों और एंजाइम्स का एक जिटल िमश्रण होता है िजसे ब्रोमीलेन कहते हैं। य और तने में व्या� रहता है। इसमें प्रमुख तत्व प्रोटीन को पचाने वाले कई शि�शाली (जैसे िसस्टीन प्रोटीनेजेज इत्य) होते हैं। साथ ही ब्रोमीलेन में कई प्रद, कै ंसररोधी और र� को पतला रखने वाले प्रभावशाली तत्व होते ह
  3. 3. 3 | P a g e इसमें भरपूर िवटािमन सी होता ह, जो एक घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट है और म-मूलकों के आतंक से हमारी र�ा करता है। और र�ातंत्र को मजबूत बनाता है। इस तरह अनन्नास डायिब, अस्थम, �दयरोग और कै ंसर में बह� िहतकारी माना गया है। मात्र एक कप अनन्नास से हमें ढेर समेंगनीज( 125% DV) िमल जाता है, जो कोिशका में ऊजा-उत्पादन और र�ातंत्र के कई एंजाइम्स के सहायक क� तरह कायर् करता है। उदाहरण के िलए सुपर ऑक्साइड िडसम् माइटोकोंिड्र(कोिशका क� ऊजार-उत्पादक इकाइया) में मु-मूलकों का सफाया करता है। इसमें पयार्� थायम (िवटािमन बी-1) भी होता है जो ऊजार् उत्पादन में कई तरह से मदद करता है। इसे मीट को मेरीनेड करने के क में भी िलया जाता है। कैंसर के िवख्यात वैकिल्पक बुडिवग उपचार में अनन्नास का भरपूर उपयोग िकया ग
  • elixirudaipur

    Sep. 13, 2013

अ नन्नास एक उष्णकटिबन्धीय पौधे एवं उसके फल का सामान्य नाम है। ब्रोमेलियासीइ परिवार का यह फल आज सर्वव्याप्त, रसीला, जोशीला और स्वादिष्ट फल है। इस फल का वानस्पतिक नाम अनानास कोमोसस है। इसका अनोखा मीठा और खट्टा स्वाद सबको अच्छा लगता है। वैसे तो इसका मौसम मार्च से जून तक रहता है, लेकिन बाजारों में यह पूरे साल उपलब्ध हो जाता है। । अनन्नास का ज्यूस शौक से पीया जाता है। साथ ही इसको ताजा काट कर खाया जाता है और खाने के बाद सलाद के रूप में या फ्रूट-कॉकटेल के रूप में प्रयोग भी किया जाता है। अनन्नास पाचक तत्वों से भरपूर, शरीर को ताजगी देने वाला, हृदय व मस्तिष्क को शक्ति देने वाला, कृमि नाशक और स्फूर्तिदायक फल है| ये त्वचा में निखार लाता है| गर्मी में यह ताजगी व ठंडक देता है| अनन्नास के रस में प्रोटीन को पचाने की अपार क्षमता है| यह आँतों को सशक्त बनाता है|

Views

Total views

384

On Slideshare

0

From embeds

0

Number of embeds

2

Actions

Downloads

6

Shares

0

Comments

0

Likes

1

×